Search for:
"अपने कर्तव्य का पालन करना सबसे बड़ा धर्म है!"

Motivational Quotes About Life ServicesServices

बिना स्वार्थ के तो इश्वर से भी रिश्ता नहीं रखता इन्सान, इक्कीस रुपये के प्रसाद में पूरी दुनिया की लालसा रखता है, और वो भी चढ़ाएगा काम पूरा होने के बाद !!

शब्द-शब्द में सार

पांच पहर काम (कर्म) किया, तीन पहर सोए, एको घड़ी न हरी भजे तो मुक्ति कहाँ से होए..! शब्द-शब्द में ब्रम्हा हैं, शब्द-शब्द में सार, शब्द सदा ऐसे कहो जिनसे उपजे प्यार..!!

रिश्ता क्या है

रिश्ता क्या है ये जानने से अच्छा है इसमें कितना अपनापन है ये महसूस कीजिए..! इज्जत देखी तो सिर्फ भगवान के घर में देखी, जहाँ रो भी लो तो जमाना तमाशा नहीं बनाता !!

मोहब्बत है जिंदगी

दवा है या जहर यारा , ख़ुशी है या कहर यारा , कोई लाया नहीं अब तक मोहब्बत की खबर यारा ! मोहब्बत में आशिको की कहानी , ये वो आग है जो जला दे जवानी , कहे कुछ भी दुनिया मुझे तो यकीं है , मोहब्बत है जिंदगी , हकीकत यही है !! मोहब्बत मोहब्बत हर दिल की आस है मोहब्बत , एक पाकीजा एहसास है मोहब्बत !

तेरे इस जहां में, मैं किसकी कीमत ज्यादा समझूँ ऐ खुदा..! तू आसमान में मिट्टी से इंसान को बनता है और यहाँ इंसान मिट्टी से तुझे…!!

Motivational Quotes About Life FeaturesFeatures

आपकी बातें करें या अपना अफ़साना कहें, होश में दोनों नहीं हैं किसको दीवाना कहें..! आपकी बाँहों में आकर खिल उठी है ज़िंदगी, इन बहारों को भला हम किसका नज़राना कहें..!! राज़-ए-उल्फ़त ज़िंदगी भर राज़ रहना चाहिये, आँखों ही आँखों में ये ख़ामोश अफ़साना कहें..!!!

क्या खुशी हैं, गम हैं क्या ..!

क्या खबर क्या पता क्या खुशी हैं, गम हैं क्या ..! ले के आँसू जो हँसी दे गम के बदले जो खुशी दे..! राज ये जाना उसी ने ज़िंदगी क्या हैं जिंदगी..! क्या खबर क्या पता...!!

मेरा कहाँ जवाब है..!

माना मेरे हसीं सनम, तू रश्क़-ए-माहताब है, पर तू है लाजवाब तो, मेरा कहाँ जवाब है..! हैरत से यूँ न देखिये, ज़र्रा हुआ तो क्या हुआ, अपनी जगह पे जान-ए-मन, ज़र्रा भी आफ़ताब है..!!

प्यार हो गया..!!

हम चुप रहे, कुछ ना कहा, कहने को क्या, बाकी रहा..! बस आँखों ही आँखों में इज़हार हो गया, हम सोचते ही रह गये, और प्यार हो गया..!! जाने कैसे, कब कहाँ, इकरार हो गया..! हम सोचते ही रह गये, और प्यार हो गया..!!

खुश रहने का मंत्र

खुश रहने का बस एक ही मंत्र है, "उम्मीद बस खुद से रखो" किसी और इंसान से नहीं !! प्रभु कहते है तू सोने से पहले सबको माफ़ कर, मैं उठने से पहले तुझे माफ़ कर दूँगा !!

छुपाएँ कैसे..!

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे..! तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे.!! आवत ही हरषे नहीं, नयनन नहीं सनेह, तुलसी वहाँ न जाइए, कंचन बरसे मेंह। (यदि अतिथि के आते ही आतिथेय प्रसन्न न हो और उसकी आँखों से ही प्रेम न छलके तो व्यक्ति को वहाँ नहीं जाना चाहिए, भले ही वहाँ पर सोने की ही वर्षा क्यों न होती हो।)

बहुत बदल गया है तु

मंजिल मिले ना मिले ये तो मुकदर की बात है !! हम कोशिश भी ना करे ये तो गलत बात है….!! जिंदगी अगर अपने हिसाब से जीनी हैं, तो कभी किसी के फैन मत बनो। कुछ लोगों ने मुझसे कहा , “बहुत बदल गया है तु” मैने भी मुस्कुराकर कहा , “लोगों के हिसाब से जिना छोड़ दिया है मैने.”

Thank You So Much !